50 30 20 नियम: पैसे बचाने का सबसे आसान तरीका

50:30:20 Rule

आज के इस अनिश्चित समय में बजट और बचत हर एक इंसान के लिए बहुत जरूरी है। कोविड-19 वायरस ने हम सभी को बचत का महत्व समझा है। जरूरी नहीं कि आप बहुत पैसे कमाते हों तभी बचत कर पाएंगे। हर एक इंसान को बचत करनी चाहिए, जिसकी जितनी क्षमता है उसके हिसाब से हर एक इंसान को अपने पैसे का सही प्रबंधन करना चाहिए ताकि वक्त आने पर आपको किसी के सामने हाथ न फ़ैलाना पड़े।

अब ऐसा तो है नहीं कि आप पैसों को अच्छे से मैनेज करके कुछ दिन में अमीर बन जाएंगे। पर अगर आप अपने कमाए हुए पैसों को अच्छे से संभाल पाएं तो आपको एक वित्तीय स्थिरता मिल जाएगी। और इसी स्थिरता के लिए ये 50:30:20 नियम काम आता है। तो चलिए समझने की कोशिश करते हैं कि ये 50:30:20 नियम क्या है?

50:30:20 नियम क्या होता है ?

ये एक सरल और आसानी से पालन की जाने वाली बजट बनाने की विधि है जो लोगों को अपने खर्च पर नज़र रखने में मदद करती है और यह सुनिश्चित करती है कि वे अपने भविष्य के लक्ष्यों के लिए पर्याप्त धन बचा पाये। इस नियम के मुताबिक आपको अपनी सैलरी को तीन हिस्सों में बांटना है: जरूरतों के लिए 50%, चाहतों (इच्छाओं) के लिए 30%, और बचत और निवेश के लिए 20%। 50/30/20 नियम को पहली बार एलिजाबेथ वॉरेन ने 2005 में प्रकाशित अपनी पुस्तक ऑल योर वर्थ: द अल्टीमेट लाइफटाइम मनी प्लान में पेश किया था।

50% आवश्यकताएं (जरूरतें): जरूरतें क्या हैं और उन्हें कैसे पहचानें?

आवश्यकताएँ वे खर्च हैं जो आपको जीने के लिए चुकाने होंगे। सबसे आसान तरीका है जरुरतों को पहचानने का “वैसे खर्चे जो आप रोक नहीं सकते”। वो आपको किसी भी तरह से करना ही पड़ेगा क्योंकि वो बुनियादी ज़रूरतें हैं। उदाहरण के लिए:

  • घर का किरया
  • बिजली का बिल
  • गैस का बिल
  • यातायात का खर्च (गाड़ी का खर्च)
  • घर की खानपान की चीजें
  • शिक्षा का खर्च
  • चिकित्सा के खर्चे
  • अगर कोई लोन है तो उसकी EMI
  • क्रेडिट कार्ड के बिल

ये बस कुछ उदाहरण हैं, ऐसा हो सकता है कि इसके अलावा भी आपके कुछ अनिवार्य खर्चे हों।

यह भी पढ़े: सैलरी से अमीर कैसे बने। अमीर बनने के कुछ आसान तरीके

50:30:20 Rule kya hota hai
50:30:20 Rule

30% इच्छाओं (चाहतों): इच्छाएँ क्या हैं और उन्हें कैसे पहचानें?

इच्छाएँ वे खर्चे हैं जिनकी आपको आवश्यकता नहीं है, लेकिन जिससे आपको ख़ुशी मिले। एक सुखद जीवन के लिए बहुत ज़रूरी है कि आपकी इच्छाएँ पूरी हों। ऐसा नहीं है कि आप मन मार कर पैसा बचाएं, उससे आपको और भी ज्यादा परेशानी होगी। इच्छाओं के ऊपर खर्च की गई पैसे हमें और भी पैसे कमाने के लिए प्रेरित करते हैं। उदाहरण के लिए:

  • बाहर खाना
  • सिनेमा जाना
  • खरीदारी करना
  • घुमने जाना
  • जिम के पैसे
  • एंटरटेनमेंट
  • गैजेट्स के पैसे

यह भी पढ़े: 10 financial गलतियाँ जो आपको अमीर बनने से रोक रही हैं

20% बचत और निवेश:

अब आप अपनी सैलरी का बाकी हिस्सा बचा सकते हैं या निवेश कर सकते हैं। निवेश आज के समय में बहुत महत्वपूर्ण है। अगर आप अपने कुछ पैसों को सही जगह निवेश नहीं कर रहे हैं तो आप अपने भविष्य को अँधेरे में धकेल रहे हैं। निवेश के कुछ विकल्प जो आप देख सकते हैं:

  • स्टॉक (Stocks)
  • सावधि जमा (FD)
  • आवर्ती जमा (RD)
  • म्यूचुअल फंड (MF, SIP)
  • सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (SGB)
  • आपातकालीन निधि (Emergency funds)
  • ऋण चुकौती/ऋण पुनर्भुगतान

निवेश एक पूरी तरह से शिक्षित वित्तीय निर्णय है जो आपको भविष्य के लिए तैयार करता है।

50/30/20 नियम का उपयोग कैसे करें?

50/30/20 नियम का उपयोग करने के लिए, आपको सबसे पहले अपने खर्च पर नज़र रखनी होगी। इससे आपको यह पता लगाने में मदद मिलेगी कि आपका पैसा कहां जा रहा है और उन क्षेत्रों की पहचान करेगा जहां आप कटौती कर सकते हैं। एक बार जब आप अपने खर्च पर नज़र रख लेते हैं, तो आप अपनी आय को 50/30/20 नियम के अनुसार आवंटित करना शुरू कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आप करों के बाद प्रति माह INR 20,000 कमाते हैं, तो आप अपनी आय को निम्नानुसार आवंटित करेंगे:

• आवश्यकताएँ: 20000 का 50% = Rs 10,000
• इच्छाओं: 20000 का 30% = Rs 6000
• बचत और निवेश: 20000 का 20% = Rs 4000

50/30/20 नियम का उपयोग करने के लिए कुछ टिप्स

• छोटी शुरुआत करें: यदि आप बजट बनाने में नए हैं तो छोटे लक्ष्य निर्धारित करके शुरुआत करें। उदाहरण के लिए, आप हर महीने अपनी आय का 10% बचाने का लक्ष्य रखकर शुरुआत कर सकते हैं।
• जरुरत के हिसाब से बदलाव करे ले: 50/30/20 नियम सिर्फ एक दिशानिर्देश है। ऐसे समय आएंगे जब आपको जरूरतों या चाहतों पर अधिक पैसा खर्च करने की आवश्यकता होगी। उस समय अपने बजट को एडजस्ट कर लें।
• अपनी प्रगति को ट्रैक करें: यह देखने के लिए कि आप कैसा कर रहे हैं, समय के साथ अपनी प्रगति को ट्रैक करना महत्वपूर्ण है। इससे आपको प्रेरित और ट्रैक पर बने रहने में मदद मिलेगी।

50/30/20 नियम के फ़ायदे

50/30/20 नियम बजट बनाना शुरू करने का एक शानदार तरीका है। यह सरल है, इसका पालन करना आसान है और यह आपके वित्तीय लक्ष्यों तक पहुंचने में आपकी मदद कर सकता है। यह एक लचीला नियम भी है, इसलिए आप इसे अपनी व्यक्तिगत आवश्यकताओं और परिस्थितियों के मुताबिक बदलाव कर सकते हैं। बजट बनाने से फिजुल खर्चे कम होते हैं जिससे आपके पैसे सही जगह इस्तमाल हो सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Index