Candlestick Pattern और Chart Pattern क्या होता हैं?

chart pattern and candlestick pattern

अगर आप एक trader हैं या फिर शेयर मार्केट में Trading करना चाहते हैं तो आपके लिए Candlestick Patterns और Chart Patterns बहुत महत्वपूर्ण हैं। इस लेख में Candlestick Pattern क्या होते हैं? Chart Pattern क्या होते हैं? चार्ट पैटर्न और candlestick पैटर्न के कुछ उदाहरण और शेयर मार्केट में इन pattern का कितना महत्व हैं उसके बारे में बताया गया हैं।

Technical Analysis क्या होता हैं?

हर एक शेयर/Indexes को Analyze करने के लिए निवेशक के पास दो ही तरीके हैं। पहला Fundamental Analysis और दूसरा Technical Analysis। Fundamental Analysis में निवेशक कंपनी के Financial Data जैसे की Profit & Loss, Revenue, Debt इत्यादि का विश्लेषण करते हैं और उसके आधार पर निवेश करता हैं।

वही दूसरी तरफ एक trader Technical Analysis की मदद से मार्केट का Trend (रुझान) पहचानने की कोशिश करता हैं। एक trader Technical Analysis करके ये पता कर सकता हैं की आने वाले समय में मार्केट नीचे जाएगा या ऊपर जाएगा। हालांकि ये अब trader के ऊपर ही निर्भर करता हैं की वो कितना सही analysis कर पता हैं। अगर analysis सही हुई तो प्रॉफ़िट होगा नहीं तो नुकसान।

Technical analysis में Demand और Supply का बहुत बड़ा हाथ होता हैं और कही न कही इसके कारण ही आप trend को पहचानने की कोशिश करते हैं। Demand और Supply के कारण शेयर के कीमत कम ज्यादा होते रहती हैं।

Technical Analysis के फायदे

  1. Trend को पहचानने में मदद मिलती हैं। यहाँ पर Trend का मतलब हैं Bullish Trend या Bearish Trend।
  2. Support और Resistance का पता करना जिसकी मदद से आप Entry और Exit पॉइंट पता कर सकते हैं।
  3. अपने रिस्क और रिटर्न को analyze कर पाना
  4. Breakouts का पता करना और प्रॉफ़िट कितना होगा वो जानकारी analyze कर पाना।

Technical Analysis करने के लिए हमे Candlestick और Charts को पढ़ना आना चाहिए। और इस लिए Chart pattern और Candlestick pattern इतने महत्वपूर्ण हैं।

शेयर मार्केट में Chart क्या होता हैं?

Chart Pattern को समझने से पहले हमे शेयर मार्केट में Chart क्या होता हैं वो समझना पड़ेगा। देखिए चूंकि शेयर की कीमत हमेशा ऊपर नीचे होते रहती हैं और उसे Analyze करने के लिए आप हर समय/दिन/हफ्ते/महीने का कीमत को कही पर लिख कर रखेंगे तो तभी तो अच्छे से विश्लेषण कर पाएंगे। और इसलिए आपको Chart की जरूरत पड़ती हैं। शेयर मार्केट में सबसे महत्वपूर्ण Chart – Candlestick चार्ट होता हैं। Candlestick Chart समझने से पहले हमे Candlestick क्या होते हैं वो जानना जरूरी हैं।

Candlestick क्या होता हैं?

जैसा की शेयर मार्केट में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला chart Candlestick chart हैं, तो हमे Candlestick क्या होते हैं वो जानना होगा। Candlestick शेयर की कीमत को दर्शाने का एक तरीका हैं। Candlestick दो प्रकार के होते हैं – Bullish Candlestick और Bearish Candlestick। Candlestick हर मिनट, हफ्ते, महीने पर बनाए जाते हैं।

candlestick क्या होते हैं?

Bullish Candle – ये हरे रंग के होते हैं। आप ऊपर फोटो देख सकते हैं। इसको देख कर आप समझ सकते हैं की उस समय/दिन/मिनट शेयर की कीमत कितने पर Open (खुलने का भाव) हुई, कितने पर बंद हुई, कितना नीचे तक गया और कितना ऊपर तक गया। Bullish Candle में Open Price नीचे होता हैं क्यूंकी मार्केट जब खुला तो कीमत कम था और जब बंद हुआ तो कीमत ज्यादा।

Bearish Candle – ये लाल रंग का होता हैं और ये भी उसी तरह काम करता हैं। इसमे बस Open Price ऊपर रहता हैं क्यूंकी जब मार्केट खुला तो कीमत ज्यादा थी और जब बंद हुआ तो कीमत कम।

आप नीचे एक उदाहरण देख सकते हैं।

candlestick pattern chart Pattern

Chart कितने तरह के होते हैं?

मुख्य रूप से शेयर मार्केट में Chart दो तरह के होते हैं। एक हैं Candlestick Chart और दूसरा हैं Line Chart

charts pattern in share market

इन दोनों के अलावा और भी चार्ट होते है जिनकी सूची नीचे दी गई हैं।

  • Bar Chart
  • Hollow Candles Chart
  • Area Chart
  • Baseline Chart
  • Heikin Ashi Chart

Line Chart

लाइन चार्ट केवल Closing Price को ध्यान में रखकर बनाया जाता हैं। आप ऊपर एक उदाहरण देख सकते हैं। अगर आप 15 मिनट का लाइन चार्ट देख रहे है तो इसका मतलब ये हुआ की हर 15 मिनट पर शेयर की जो भी कीमत रहेगी उसे जोड़कर एक लाइन बना दी जाएगी। लाइन चार्ट से आपको बस एक Trend का पता चलेगा की शेयर की कीमत नीचे जा रही हैं या ऊपर जा रही है। लाइन चार्ट बहुत ही सरल हैं इसलिए आसानी से समझा जा सकत हैं।

लाइन चार्ट में Closing Price के अलावा जैसे की opening price, high और low नहीं रहता हैं, जिसके कारण support और resistance का पता कर पाना मुश्किल हो जाता हैं। इसलिए ज्यादातर समय में इसका इस्तेमाल बस रुझान पता करने के लिए होता हैं।

Candlestick Chart

वही दूसरी तरफ Candlestick Chart (Live चार्ट देखे) में Candlestick का इस्तेमाल होता हैं। Candlestick का इस्तेमाल होने के कारण इसमे Traders को Closing Price, opening price, high, low, support, resistance, trend इत्यादि सब कुछ पता चलता हैं।

अगर आप 15 मिनट का Candlestick Chart देख रहे हैं इसका मतलब हैं की हर 15 मिनट पर शेयर की opening कीमत, Closing कीमत, High और low को आप एक Candlestick की मदद से पढ़ पाएंगे। यहाँ पर उस candle में पहले मिनट में जो कीमत थी वो उसकी Opening Price हैं, उस पूरे 15 मिनट में शेयर की सबसे ज्यादा कीमत High हैं और सबसे कम कीमत low हैं। अंत में 15 वे मिनट में जो शेयर की कीमत हैं वो उसकी Closing कीमत हैं।

ठीक इसी तरह एक मिनट, आधा घंटा, एक घंटा, एक हफ्ता, एक महिना पर चार्ट बनता हैं।

Candlestick Pattern क्या होता हैं?

Candlestick Pattern का मतलब हैं की चार्ट पर कुछ Candlestick को मिलकर एक विशेष पैटर्न बनना जो शेयर की trend बताने में मदद करता हैं। ये दो प्रकार के होते हैं Bullish और Bearish। पहले Bearish Pattern को समझ लेते हैं क्यूंकी अगर पहले पता चल गया की बाजार गिरने वाला हैं तो आप अपना नुकसान कम कर सकते हैं। वैसे शॉर्ट सेलिंग कर के आप फायदा भी उठा सकते हैं।

इन patterns का मुख्य मकसद यही होता हैं की वो आने वाले कीमतों को थोड़ा एहसास दिला पाते हैं।

Bearish Candlestick Pattern

Bearish Pattern आपको ये बताता हैं की आने वाले समय में कीमत नीचे जाने वाली हैं। आप इसकी मदद से अपना Trade कर सकते हैं। नीचे कुछ उदाहरण दिए हैं।

bearish Candlestick Pattern

Bearish Marubozu –  अगर चार्ट में कही ये पैटर्न बन गया इसका मतलब ये हैं की मार्केट बहुत ज्यादा bearish हैं। इसमे Open ही इसका High होता हैं और Close ही इसका Low होता हैं। Bearish marubozu बताता है की trader मार्केट खुलते ही बेचना शुरू कर दिए हैं और बंद होते तक बस बेच ही रहे थे। बाजार में इतना बेचने की दौड़ थी की कभी कोई खरीद ही नहीं हैं और इसलिए high इसके opening price से ऊपर गया ही नहीं।

Bearish Engulfing Pattern – अगर आप ऊपर फोटो में देखेंगे तो पाएंगे की दो candlestick से बनी ये पैटर्न आपको बताती हैं की मार्केट में बेचने वाले लोग हावी हो गए हैं। पहला वाला Candle green हैं और दूसरा लाल हैं और पहले वाले से बड़ा हैं। ज्यादातर समय में ये पैटर्न चार्ट के ऊपरी हिस्से मे बनता हैं और आनेवाले Downtrend के बारे में बताता हैं।

Evening Star Pattern – ये तीन candlestick से बनता हैं और बीच वाले का candle का आकार छोटा रहता हैं। इससे uptrend का reversal पता चलता हैं।

Bullish Candlestick Pattern

Bullish Pattern आपको ये बताता हैं की आने वाले समय में कीमत ऊपर जाने वाली हैं।

bullish Candlestick Pattern

Bullish Engulfing – ये Bearish Engulfing का उल्टा होता हैं। इसमे पहले एक छोटा लाल candle होता हैं और उसके बाद एक हरा candle होता हैं जो लाल वाले को Engulf करता हैं। इससे ये पता चलता हैं की भले ही मार्केट नीचे खुला लेकिन Buyers हावी रहे और मार्केट को ऊपर लेकर गए।

Hammer Pattern – इसका मतलब होता हैं की sellers कोशिश कर रहे थे कीमत को नीचे ले जाने की पर buyers ने ज्यादा खरीदी की और शेयर को ऊपर ले जाकर बंद किया। ये अक्सर chart के नीचे बनता हैं और trend reversal का सूचक होता हैं।

Three White Soldiers Pattern – इससे ये पता चलता हैं की आने वाले समय मे trend बदलने वाला हैं और कीमत ऊपर जाने वाली। ऐसा इसलिए क्यूंकी इन candles में Shadow (Wick) बहुत छोटी रहती हैं। इसका मतलब ये हुआ की buyers को जब मौका मिल रहा हैं वो खरीद रहे हैं। और समय खतम होने तक भी लोग बस शेयर को खरीद रहे हैं इसलिए शेयर का High उसके closing price तक हैं।

शेयर मार्केट में Chart Pattern क्या होता हैं?

जैसा की आपने देखा की Candlesticks से पैटर्न कैसे बनते हैं और ये pattern कितने महवपूर्ण हैं। ठीक उसी तरह बहुत सारे candlesticks के high और lows को जब जोड़ा जाता हैं तो कुछ कुछ pattern बनते हैं और ये आने वाले समय में कीमतों को मालूम करने में मदद करते हैं। आप नीचे एक बहुत ही famous चार्ट पैटर्न देख सकते हैं। इसे Head and Shoulder Chart Pattern कहते हैं।

head and shoulder chart pattern

अगर आप इसे देखेंगे तो अलग अलग candlestick की मदद से एक pattern बन रहा हैं। जब भी आप एक शेयर की Technical Analysis करेंगे तो आपको ये लाइन खुद से ही बनानी पड़ेगी। ये बस एक उदाहरण हैं। इस Head and Shoulder में आप देख पाएंगे की शेयर की कीमत ने पहले एक high बनाया उसके बाद नीचे गिरते हुए उसी जगह पहुचा जहा से वो ऊपर जा रहा था।

इसके बाद फिर से शेयर में उछाल आया हैं और वो अपने पिछले कीमत को तोड़ते हुए उससे ज्यादा High बनता हैं, फिर से वही चीज होती हैं शेयर गिरता हैं और फिर से ऊपर जाता हैं। इस बार लेकिन वो अपने बीच वाले high को नहीं तोड़ पाता हैं। अब अगर शेयर नीचे गिरता हैं और अपने Neckline (गर्दन) को तोड़ता हैं तो शेयर की कीमत नीचे ही जाने वाली हैं। इसे Trend Reversal कहते हैं।

ऐसे ही हर pattern का अपना मतलब होता हैं। Charts में भी कुछ Pattern आने वाले Bullish Trend को दर्शाते हैं और कुछ Pattern आने वाले Bearish Trend के सूचक होते हैं।

कुछ महत्वपूर्ण Chart Pattern के नाम नीचे दिए गए हैं।

  • Head and Shoulder
  • Cup and Handle
  • Double Top
  • Double Bottom
  • Rounding Bottom
  • Triangles

इन सब के अलावा भी और चार्ट पैटर्न होते हैं पर मुख्य रूप से इतने में आपका काम बन जाएगा।

अंत में

Chart Pattern और Candlestick Pattern एक दिन में याद नहीं होंगे। आप धीरे धीरे ही सबको याद कर पाएंगे और charts में इस्तेमाल कर पाएंगे। अगर आप Technical Analysis सिख कर trade करना चाहते हैं तो आपको charts को पढ़ना आना ही चाहिए। एक महत्वपूर्ण बात ये हैं की आपको Volumes को जरूर देखना हैं जब भी कोई पैटर्न बन रहा हैं। इसके साथ साथ technical analysis में और भी बहुत चीजे होती हैं। आप सभी को सीखने के बाद ही अपना Trade लीजिए। बिना सोचे समझे सिर्फ chart pattern के ऊपर trading करना गलत हैं।

आपको इतना तो समझ में आया ही होगा की Technical Analysis आसान नहीं हैं। वैसे ये कोई नई बात नहीं हैं, पैसा कमाना आसान रहता तो सब कोई नहीं कमा लेता। शेयर मार्केट में अगर पैसा कमाना हैं तो दिमाग के साथ साथ आँखों पर भी stress होने लगेगा।

उम्मीद करते हैं आपको कुछ समझ में आया होगा। अगर आपको कुछ समझ नहीं आया हैं तो आप नीचे कमेन्ट में पुछ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Index