GTT Order Meaning in Share Market | GTT Order क्या होता हैं?

GTT Meaning in share market

शेयर मार्केट में timing का बहुत महत्व हैं। कोई शेयर को सही समय में खरीदना चाहता हैं तो कोई बहुत समय तक शेयर को होल्ड करना चाहता हैं। दोनों में ही टाइमिंग जरूरी हैं। शेयर मार्केट का एक बहुत ही बुनियादी नियम हैं की आप शेयर को कम दाम में खरीद कर ज्यादा दाम में बेचिए। अब ऐसा तो हैं नहीं की आपको पहले से मालूम होगा की शेयर के दाम कम ज्यादा कब होंगे। और ऐसा भी जरूरी नहीं हैं की आप हमेशा मार्केट को देखते रहे और कीमत को time करने की कोशिश करते रहे।

इसी का उपाय हैं GTT ऑर्डर। GTT जिसे Good Till Triggered ऑर्डर बोल जाता हैं का इस्तेमाल करके एक निवेशक किसी शेयर को अपने मन चाहे कीमतों पर खरीद और बेच सकता हैं जिससे आपको ज्यादा से ज्यादा फायदा हो । अब ऐसे में आप सोच रहे होंगे की ये काम तो Limit ऑर्डर से भी हो जाता हैं। लिमिट ऑर्डर की वैधता दिन भर की होती हैं और GTT ऑर्डर की वैधता एक साल। अब आपको थोड़ा सा समझ आ गया होगा की आखिर GTT Order क्या होता हैं? इस आर्टिकल में GTT ऑर्डर क्या होता हैं? GTT Order in Share Market इत्यादि जैसी जानकारी दी गई हैं।

GTT Order in Hindi

GTT का फूल फॉर्म Good Till Triggered। ऐसे ऑर्डर तब तक Execute नहीं होते हैं जब तक उनका trigger price नहीं आता हैं। जैसे ही Trigger Price आ जाता हैं तो एक Limit order (या मार्केट प्राइस) लग जाता हैं। कहने का मतलब जैसे ही Trigger Price आ गया वैसे ही ये GTT order के normal ऑर्डर बन जाता हैं। इसमे आपको Trigger Price और Limit Price डालना होता हैं। GTT orders को आप शेयर खरीदने और बेचने के लिए कर सकते हैं। जाहीर सी बात हैं की आप ऑर्डर लगाने के बाद आराम से बैठ सकते हैं और आपको हर दिन मार्केट को देखने की जरूरत नहीं हैं।

एक उदाहरण से इसको समझते हैं:

मान लीजिए आपको किसी कंपनी का शेयर 100 रुपये में खरीदना हैं और उसका कीमत आज की तारिक में 150 रुपये हैं। आपने पूरा Analysis किया हैं की कीमत उतने तक गिर आ जाएगी। अब ऐसे आप Limit ऑर्डर लगाएंगे की 100 पर आया तो आप शेयर खरीदे। अब Limit ऑर्डर में क्या हैं की आपको हर दिन ऑर्डर लगाना पड़ेगा क्यूंकी लिमिट ऑर्डर दिन खत्म होते ही cancel हो जाता हैं। GTT ऑर्डर की मदद से आप एक बार ऑर्डर लगा दीजिए और वो एक साल तक Open रहेगा या जब तक ऑर्डर execute नहीं हो जाता हैं।

आपको बस एक Trigger Price सेट करना होगा। ऊपर के उदाहरण में Trigger Price 105 का मान लेते हैं। इसका मतलब हुआ की जैसे ही शेयर की कीमत आने वाले समय में 150 से घटकर 105 रुपये हुआ वैसे ही आपका order trigger मतलब open हो जाएगा। इसके बाद अगर कीमत गिरकर 100 पर आया तो वो ऑर्डर execute होकर शेयर Buy हो जाएगा। ठीक यही प्रक्रिया Sell के लिए भी हैं।

गौर करने वाली बात ये हैं की अगर कीमत 105 से घटकर 100 नहीं आया तो आपका ऑर्डर cancel हो जाएगा। मतलब की जैसे ही Order Trigger price तक आता हैं और Trigger activate होता हैं उसके बाद से एक GTT order normal orders की तरह ही काम करता हैं। इसलिए अधिकांश समय में लोग ये दोनों Trigger Price और Limit Price एक ही रखते हैं।

GTT Orders कितने तरह के होते हैं?

GTT Order मुख्य रूप से दो तरह के ही होते हैं। एक Buy GTT Order और दूसरा Sell GTT Order। इसी में आप Limit और Market price को लगा सकते हैं।

एक अन्य GTT Order भी होता हैं जिसे हम Sell GTT OCO Order कहते हैं। OCO का मतलब हैं One Cancels Other होता हैं। ये सिर्फ Sell करने के लिए होता हैं। OCO में आप अपने Target और Stoploss दोनों को सेट कर सकते हैं। जैसे ही इन दोनों में से एक तक कीमत पहुचेगा आपका Order Trigger हो जाएगा और दूसरा अपने आप Cancel हो जाएगा। ये सिर्फ और सिर्फ Sell Order के लिए होता हैं।

उदाहरण के लिए अगर किसी शेयर की CMP 100 रुपये हैं और आपका टारगेट 110 हैं और Stoploss कीमत 95 हैं तो आप OCO का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसमे आप दोनों के लिए अलग अलग Trigger price सेट करेंगे। यहाँ पर Stoploss Trigger आपका 96 हो सकता हैं और Target Trigger 108 रुपये हो सकता हैं।

इस उदाहरण में आप 1:2 के Risk और Reward को फॉलो होता देख सकते हैं। आपकी stoploss हैं 5 रुपये और टारगेट हैं 10 रुपये।

GTT Orders के फायदे?

देखिए Limit orders के जो फायदे उसे आप 1 साल के लिए समझ लीजिए। इससे आप आसानी से समझ पाएंगे। शेयर मार्केट में ज्यादा profits कमाने के लिए कम प्राइस में खरीदना जरूरी हैं। और जैसे की आप जानते हैं की कोई नहीं बता सकता हैं की कीमत कब कितना जाएंगी।

GTT ऑर्डर से आप Breakout को अच्छे से पकड़ पाएंगे। आप Technical Analysis में support और Resistance की मदद से कीमत का अनुमान लगाकर एक GTT ऑर्डर लगा सकते हैं।

आपको दिन भर मार्केट और मोबाईल से चिपकने की जरूरत नहीं हैं। इससे आप अपने अन्य काम में भी ध्यान दे पाएंगे। बहुत से ऐसे लोग होते हैं जो सही Entry और Exit नहीं ले पाते हैं क्यूंकी वो मार्केट में समय नहीं दे सकते हैं। ऐसे में आप GTT ऑर्डर का इस्तेमाल कर सकते हैं।

आप GTT Order को अपने target और Stoploss के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं। जिससे आपको नुकसान और प्रॉफ़िट दोनों मे मदद हो सकती हैं।

आप GTT ऑर्डर कभी भी लगा सकते हैं पर वो मार्केट के समय पर ही चालू रहेगा। इसके लिए आपको मार्केट के समय में analysis करने की जरूरत नहीं हैं। आप आराम से शनिवार और रविवार को पूरी रिसर्च करके ऑर्डर लगा सकते हैं।

अंत में

GTT ऑर्डर से निवेश Automate हो गया हैं। लगभग सारे ब्रोकर्स ये सुविधा देते हैं पर इसकी शुरुआत Zerodha ने की थी। उम्मीद करते हैं आपको GTT Order से संबंधित कुछ जानकारी मिली होगी। अगर कुछ समझ में न आए तो आप नीचे कमेन्ट करके पुछ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Index