IDCW Mutual Fund और Growth Mutual Fund क्या होता हैं?

IDCW Mutual Funds vs Growth Mutual Funds

मार्केट में बहुत सारे Mutual Fund मौजूद हैं। Equity Mutual Fund, Debt Mutual Fund, Hybrid Mutual Fund के अलावा आपके लक्ष्य के हिसाब से भी अलग अलग Mutual Fund हैं।

लगभग सारे Mutual Funds में Direct और Regular Mutual Fund होते हैं। और जीतने भी Direct और Regular Mutual Fund उन सब में IDCW Mutual Fund और Growth Mutual Fund होते हैं। दिमाग घूम गया ना। चलिए उदाहरण से समझते हैं।

अगर आप SBI Blue Chip Mutual Fund को उठा कर देखेंगे तो आपको ये चार विकल्प मिलेंगे।

  1. SBI Blue Chip Fund Regular Plan – IDCW
  2. SBI Blue Chip Fund Regular Plan – Growth
  3. SBI Blue Chip Fund Direct Plan – IDCW
  4. SBI Blue Chip Fund Direct Plan – Growth

देखिए SBI Blue Chip Mutual Fund एक Equity Mutual Fund हैं। और इसमे भी 4 विकल्प हैं। अब इन चारों में से कौन सा बेहतर हैं ये समझने के लिए आपको थोड़ा मेहनत करना पड़ेगा। पहले आप Direct और Regular में अंतर समझ लीजिए।

यह भी पढ़े: Direct vs Regular Mutual Fund – कौन सा बेहतर हैं?

अब दो विकल्प बचते हैं- IDCW और Growth। इस लेख में इन्ही दोनों के बारें में जानकारी दी गई हैं। IDCW Mutual Fund aur Growth Mutual Fund क्या होता हैं? कैसे काम करते हैं? और कौन इनमे से बेहतर हैं?

IDCW Mutual Funds क्या होते हैं?

IDCW का फूल फॉर्म हैं Income Distribution Cum Capital Withdrawal (IDCW)। इसका पुराना नाम Dividend Option था पर चीजों को आसान करने के लिए SEBI ने इसका नाम बदल कर IDCW कर दिया। आपको नाम से ही समझ आ जाएगा की जो इंकम हो रही हैं उसे निवेशको के बीच बाट दिया जा रहा हैं। और उसी को आप अपने Capital निकालना भी समझ सकते हैं।

IDCW Mutual Funds में आपको अपने Mutual Fund का प्रॉफ़िट समय समय पर मिलते रहते हैं। अब ये अवधि आपके और Mutual Fund के ऊपर निर्भर करता हैं। इसे आप एक interest देने वाला Mutual Fund की तरह भी समझ सकते हैं।

पर ये भी समझना जरूरी हैं की ये SWP नहीं है, उससे बहुत अलग हैं। IDCW Mutual Funds को आम तौर पर Retired लोग और ऐसे निवेशक चुनते हैं जिन्हे अपने महीने के खर्चे के लिए पैसे चाहिए होते हैं। इसमे मूल राशि निवेश किया हुआ रहता हैं और प्रॉफ़िट जो मिलता हैं आप उसे अपने सुविधा से इस्तेमाल कर सकते हैं।

IDCW Mutual Funds के विशेताएं

  1. प्रॉफ़िट का समय समय पर मिलते रहना: IDCW mutual funds ऐसे बनाए गए हैं की उनका प्रॉफ़िट आपको एक fixed interval पर मिलते रहता हैं जैसे की मासिक, तीमही, 6 महीने पर या फिर सालाना।
  2. मूल राशि बचा हुआ रहता हैं : एक जो मुख्य कारण हैं IDCW funds का की वो इंकम और प्रॉफ़िट आपको दे देते हैं। अब इससे आपका जो मूल निवेश का राशि बचा हुआ रहता हैं। अब आम तौर मानसिकता ये होती हैं प्रॉफ़िट को जितना जल्दी निकाल ले इंसान। तो वैसे विषय में IDCW Funds अच्छे हैं।
  3. Risk कुछ हद तक कम हो जाता हैं: IDCW funds अक्सर कम रिस्की होते हैं। अब ऐसा इसलिए की आपने अपना प्रॉफ़िट तो निकाल लिए तो निवेश किया राशि तो कम ही हैं। इसलिए अगर निवश की राशि कम हैं तो risk भी तो कम हुआ। ऐसे निवेशक जो ज्यादा रिस्क लेना नहीं चाहते हैं उनके लिए ये अच्छा विकल्प हैं।
  4. Tax Efficiency: IDCW funds में आपको अपने प्रॉफ़िट पर tax लगता हैं जो की आपके अपने tax Slab के हिसाब से देना होता हैं। अगर आपका taxable इंकम कम हैं तो आपका tax नहीं भी लग सकता हैं।

Growth Mutual Funds क्या होते हैं?

जैसा की आप नाम से ही समझ पा रहे होंगे Growth mutual funds आपके निवेश को बढ़ाने के ऊपर काम करती हैं। मतलब की आपका जो प्रॉफ़िट हैं वो फिर से निवेश हो जाता हैं। जाहीर सी बात हैं अगर आप ज्यादा पैसे निवेश करेंगे तो ज्यादा रिटर्न मिलेगा।

उदाहरण के लिए अगर आप 10 हजार निवेश करते हैं और आपको 100% प्रॉफ़िट होता हैं तो वो 10 हजार, 20 हजार हो जाएगा। पर वही पर अगर आप 1 लाख निवेश करेंगे तो वही एक लाख, 2 लाख बन जाएगा। हालांकि दोनों में 100% ही रिटर्न हैं पर दोनों में फर्क हैं।

ठीक उसी तरह आप अगर IDCW से तुलना करेंगे तो Growth में आपका ज्यादा पैसा लग रहा हैं, क्यूंकी जो प्रॉफ़िट हैं वो फिर से निवेश कर दिया जा रहा हैं इसलिए आपका रिटर्न जो हैं वो ज्यादा होगा। आम तौर पर इसे ऐसे लोग करते हैं जो भविष्य में ज्यादा मोटा रकम चाहते हैं।

Growth Mutual Funds के विशेताएं

  1. Capital में वृद्धि: इन MFs का मुख्य मकसद आपके लिए ज्यादा से ज्यादा प्रॉफ़िट कमा कर देना होता हैं। इसलिए इनसे रिटर्न ज्यादा मिलता हैं।
  2. Risk Profile: Growth mutual funds IDCW के तुलना में थोड़े risky होते हैं। जाहीर सी बात हैं ज्यादा पैसा ज्यादा रिस्क। अब ये आपके ऊपर निर्भर करता हैं की आपके लिए कितना पैसा निवेश के लिए Risky हैं। अगर आप हर्षद मेहता निकले तब तो 100-200 करोड़ आपके लिए कुछ नहीं। लेकिन अगर आप हर्षद मेहता होते तो ये आर्टिकल थोड़े पढ़ रहे होते। (मजाक की बातें हैं, ignore कर दीजिए)
  3. Tax: Growth funds में अगर आप Mutual Fund को redeem करते हैं तो आपको Capital Gains Tax लगता हैं। अब Capital Gains में भी Short Term है या long term ये समय सीमा पर निर्भर करता हैं।

Growth Mutual Funds vs IDCW Mutual Funds

एक summary से दोनों Mutual Funds को अच्छे से समझते हैं।

विशेताएं

IDCW Mutual FundsGrowth Mutual Funds
प्रॉफ़िट निवेशको को दे दिया जाता हैंफिर से निवेश कर दिया जाता हैं
NAVकम होते हैं क्यूंकी प्रॉफ़िट बाट दिया जाता हैंचूंकि profits को फिर से निवेश किया जाता हैं इसलिए इनका NAV ज्यादा होता हैं
टैक्स इसे पूरी other income source में गिना जाता हैं और टैक्स स्लैब के हिसाब से टैक्स लगता हैं। अगर प्रॉफ़िट 5000 से ज्यादा हैं तो 10% TDS काट कर प्रॉफ़िट दिया जाता हैं।Short-term or long-term capital gains are applicable as per the investment tenure.
कुल रिटर्नकुल रिटर्न Growth की तुलना में कम होता हैं।जैसे की ये लंबे समय में ज्यादा रिटर्न देने के लिए बनाया गया हैं इसलिए इसमे IDCW के तुलना में ज़्यादा रिटर्न मिलता हैं।
किसके लिए सहीऐसे निवेशक जिन्हे बीच बीच में पैसों की जरूरत पड़ते रहती हैंजिन्हे लंबे समय तक कोई जरूरत ना हो और अपने पैसों को बढ़ाने के इच्छा रखते हो

एक प्रो टिप आपको देते हैं- जैसे की आप निवेश कर रहे हैं, तो आप high risk वाले IDCW Mutual fund में निवेश कर दीजिए। अब आपको जो प्रॉफ़िट होगा उसको आप किसी अच्छे कम रिस्क वाले में लंबे समय के लिए निवेश कर दीजिए। ऐसा करने से आपका risk बहुत कम हो जाएगा। (ऐसा नहीं हैं की ये कोई expert advice हैं, पैसा आपका हैं तो हिसाब किताब तो आपको करना ही पड़ेगा)। 

अंत में

IDCW mutual funds और Growth mutual funds दोनों ही निवेश की बुनीयदी चीज को पूरा करते हैं। वो आपको अपने निवेश पर रिटर्न लाकर देते हैं। अंतर बस दोनों के समय पर हैं। जहा IDCW आपको समय समय पर रिटर्न देता हैं वही Growth Mutual Fund आपको निवेश के अंत में रिटर्न देगा।

दोनों के अलग अलग ग्राहक हैं और दोनों के अलग फायदे और नुकसान हैं। आप इन दोनों को अच्छे समझ कर ही अपना निवेश का निर्णय लीजिए। आशा करते हैं की आपको कुछ समझ आया होगा और आप अपने Financial निर्णय थोड़ा सूझ बुझ से कर रहे होंगे। अगर फिर भी आपको कुछ समझ ना आए तो आप नीचे कमेन्ट कर के पुछ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Index