IREDA Share Price News – एक दिन में 10% गिरा IREDA शेयर

ireda share price news

15 दिसंबर 2023 शुक्रवार के दिन IREDA के शेयर में लोअर सर्किट लग गया। शेयर की कीमत 108 रुपए 30 पैसे पर आकर के रुक गई और शेयर मे ट्रेडिंग बंद हो गया। जाहिर सी बात है कि इस 10% का गिरावट में बहुत से कारण ऐसे है जिसके बारे में एक आम निवेशक को पता होना चाहिए। देखिए होता क्या है जब भी मार्केट में कुछ ऐसा होता है तो आपके और हमारे जैसे निवेसको के अंदर एक डर का माहौल बन जाता है जिसके कारण वह ऐसी गलतियां कर देते हैं जिससे उन्हें नुकसान होता है।

इस आर्टिकल में इस 10 परसेंट के गिरावट के बारे में बताया गया है और यह भी बताया गया है कि आने वाले समय में एक आम निवेशक को इस गिरावट के कारण अपने पोर्टफोलियो में IREDA को लेकर के क्या निर्णय लेना चाहिए। पर सबसे पहले यह बहुत जरूरी है कि आप इसे बस एक review या analysis के रूप में ले। IREDA शेयर के साथ आगे क्या करना है यह काम पूरी तरह से आपका निर्णय होना चाहिए।

अगर आप बेचना चाहते हैं बेच सकते हैं, और खरीदना चाहते हैं तो खरीद सकते हैं, एवरेजिंग करना चाहते हैं वह भी कर सकते हैं, होल्ड करना चाहते हैं वह भी कर सकते हैं, यह पूरी तरह से यह आपका निर्णय होना चाहिए क्यूंकी पैसा आपका हैं तो निर्णय भी आपका ही होना चाहिए।

IREDA Share News

IREDA शेयर का IPO 30 से 32 रुपए के प्राइस बैंड में आया था और 29 नवंबर को ₹50 पर इसकी लिस्टिंग हुई। शेयर की कीमत 29.11.2023 से लेकर के 15.12.2023 तक रिटर्न के मामले में देखा जाए तो 80% का रिटर्न दिया है जिसमें यह 10% का गिरावट भी है। IREDA का अभी तक का high 123.20 रुपए हैं और अभी तक का low ₹50 जो कि इसका लिस्टिंग प्राइस है। मतलब की शेयर अपनी लिस्टिंग के बाद से अभी तक बस ऊपर ही गया था।

अगर आप IREDA का 15 दिसंबर का चार्ट देखेंगे तो आपको समझ में आएगा की मार्केट जैसे ही 9:15 बजे खुला कीमत 119 रुपए से गिरकर के 111 रुपए पर आ गया। और यह चीज शुरू के 5 मिनट में हुआ है। अब जैसे ही मार्केट खुला और शेयर गिरने लगा तो इसमें क्या होता है कि आम निवेशक भी सोचते हैं कि शेयर की कीमत और नीचे ही गिरने वाली और वह लोग भी इस चीज में शामिल हो जाते हैं जिसके कारण शेयर और नीचे गिरता ही गया और लोअर सर्किट लग गया। अब यह लोअर सर्किट लगने के बहुत से कारण है जो कि आपको समझना जरूरी है।

9:15 बजे जब मार्केट खुला तो बहुत से बड़े निवेशक ने अपना प्रॉफिट बुकिंग किया। शेयर गिरने का सबसे बड़ा कारण है प्रॉफिट बुकिंग। अब इस प्रॉफ़िट बुकिंग का कारण समझना जरूरी हैं। पर उससे पहले ये समझना जरूरी हैं की IREDA शेयर का कीमत अपने  IPO प्राइस 30 से ₹32 रुपए और लिस्टिंग जो 60 रुपए का था उससे ले करके यह 123 रुपए तक कैसे पहुंचा और क्यों पहुंचा।

देखिए मार्केट में दो तरह के निवेशक होते हैं। एक जो बस कीमतों पर ट्रेड या निवेश करते हैं। जब कीमत ऊपर जा रहा है तो उसमें बस सवार हो जाएंगे और प्रॉफिट ले लेंगे और दूसरे निवेशक होते हैं जो कंपनी को समझते हैं और बिजनेस को समझते हैं जिस कारण से वह किसी भी कंपनी में अपना पैसा निवेश करते हैं। अभी IREDA शेयर का कीमतों का ऊपर जाना और फिर यह 10% का गिरावट यह सिर्फ और सिर्फ इस चीज पर है की मार्केट में लोगों का व्यवहार कैसा है इसमें और कुछ भी नहीं है। कंपनी के Financials की तो इसमे बात हैं ही नहीं। ये पूरी तरह से Market Driven Rise और Fall हैं। इसे हम Volatility कहते हैं।

ये भी पढ़े: शेयर मार्केट में IPO क्या होता हैं? IPO Meaning in Hindi

IREDA: बिजनस और कंपनी

Indian Renewable Energy Development Agency (IREDA) की शुरुआत 1987 में हुआ था और ये Ministry of New and Renewable Energy (MNRE) के अंदर काम करती हैं। IREDA एक सरकरी मिनी रत्न कंपनी हैं जो renewable energy projects को लोन वैगरा देने का काम करती हैं। IREAD के लोन की सूची आप नीचे देख सकते हैं।

ireda business loans

IREDA ने FY 23 में 32586 crore के लोन सैंक्शन किए हैं जिसमें से 21639 करोड़ के लोन डिसबर्स हो चुके हैं और कर्जदारों ने अभी तक 8637 करोड रुपए वापस भी कर दिए हैं। आपको यह तो समझ में आ गया होगा कि कंपनी साफ सुथरा एनर्जी के ऊपर अपना पैसा खर्च कर रही है। अब जैसा कि आप जान रहे हैं कि देश में  रिन्यूएबल एनर्जी को लेकर के सिर्फ अच्छी अच्छी चीजे हो रही है।

उस हिसाब से देखा जाए तो कंपनी का भविष्य में बहुत ज्यादा जरूरत है क्योंकि यह कंपनी ऐसे प्रोजेक्ट्स को स्पॉन्सर कर रही है या फाइनेंस कर रही है जो कि उसे फील्ड में काम कर रहे हैं। कंपनी का अच्छा खासा प्रॉफिट भी हो रहा है FY 23 में कंपनी को 865 करोड़ का नेट प्रॉफिट हुआ है जो कि पिछले साल FY22 में 634 करोड़ था।

ऊपर ऊपर से देखा जाए तो कंपनी Renewable Energy Sector के ऊपर ही निर्भर हैं। Projects को पैसा देना, energy efficiency के उपर काम करना, awareness, इत्यादि भी इनके काम हैं।

अभी हाल ही में कंपनी ने 8 दिसंबर को PM-KUSUM योजना भी लॉन्च किया है। मतलब की कुल मिला करके रिन्यूएबल एनर्जी सेक्टर में यह कंपनी काम करती है और आने वाले समय में यह अच्छा ही काम करने वाली है। तो अगर आप एक लांग टर्म इन्वेस्टर हैं तो आपको यह 10 परसेंट का गिरावट से ज्यादा फर्क नहीं पड़ना चाहिए क्योंकि कंपनी का फाइनेंशियल अच्छा है सेक्टर में ग्रोथ भी है और यह एक सरकारी कंपनी है।

यह हो सकता है कि आने वाले समय में अगर सरकार बदलती है और रिन्यूएबल एनर्जी से सरकार का फोकस अलग सेक्टर में चला गया तब थोड़ा परेशानी हो सकता है। पर फिलहाल के लिए देखा जाए तो यह चीज भी संभव नहीं है क्योंकि जिस तरह से देश में प्रदूषण और एनर्जी के ऊपर चर्चा हो रहा है उस तरह से आने वाले 10- 20 सालों में यह तो नहीं दिखता है कि कहीं से भी रिन्यूएबल एनर्जी सेक्टर को पीछे रखा जाएगा।

ये भी पढ़े: शेयर मार्केट में Upper Circuit और Lower Circuit क्या होता हैं?

IREDA Share Lower Circuit Reasons

शेयर की कीमत का ऊपर नीचे होना तो आम बात और लोअर सर्किट लगा भी आम बात है। यह कोई ज्यादा बुरी चीज नहीं है। कभी भी कोई भी शेयर 8-10 परसेंट अपने आप को करेक्ट कर सकता है। अगर आप इस चीज से घबरा कर परेशान होकर किसी अच्छे शेर को बेच देते हैं तो इसमें आपका मानसिकता की गलती है। आप गलत नजरिया से मार्केट में आए हैं और गलत चीज कर रहे हैं।

नीचे IREDA मे 15 दिसंबर को लोअर सर्किट लगने का कारण दिया गया हैं। हो सकता है यह सही भी हो या गलत भी हो पर मुख्य रूप से यह कारण थोड़े वाजिब और तार्किक लगता हैं।

IREDA IPO की कीमत ₹32 थी, लिस्टिंग हुई ₹50 पर और 29 नवंबर से लेकर के 14 दिसंबर को कीमत 123.20 हो गया। अब जिनका अलॉटमेंट हुआ था ₹32 रुपए पर उसका प्रॉफिट तो आप समझ ही सकते हैं कि कितना हुआ होगा। उसके बाद भी जिनको अलॉटमेंट नहीं हुआ हो और वह शुरुआती के दो-तीन दिनों में शेयर खरीदे हैं उनके लिए भी कितना प्रॉफिट हुआ होगा आप समझ ही सकते हैं।

29 नवंबर से 7 दिसंबर तक शेयर की कीमत में ज्यादा कुछ भी नहीं कुछ भी नहीं हुआ और उसके बाद से 8 दिसंबर से 14 दिसंबर के तक लगभग शेयर 90 प्रतिशत का रिटर्न दे दिया। अब जिनके पास भी IREDA का शेयर एलॉटमेंट से है या वो शुरुआती के कुछ दिनों में खरीदे हैं उनके लिए कल का दिन एक प्रॉफिट बुकिंग का दिन था।  निवेशक अपना पैसा अब 80 – 90 परसेंट पर लेकर खुश हैं। देखा जाए तो पैसा दो गुना हो गया।  कोई भी इंसान अपना प्रॉफिट तो लेगा ना और यही मुख्य कारण था शेयर प्राइस का गिरना।

ऐसा हो सकता है कि आने वाले समय में कीमत₹108 से गिरकर 90-95 के पास आ जाए पर इसमें कोई घबराने वाली बात नहीं है। हां अगर आप एक शॉर्ट टर्म इन्वेस्टर है तो आपके लिए यह सही नहीं है कि हां 10 परसेंट का गिरावट हो गया और फिर भी होल्ड करके रखे या नहीं। पर अगर आप एक लांग टर्म इन्वेस्टर है तो यह 5-10 परसेंट का करेक्शन से आपको कुछ भी फर्क नहीं पढ़ना चाहिए।

ये भी पढ़े: शेयर मार्केट में Downward Averaging क्या होता हैं?

IREDA के साथ क्या करें

अगर आप एक शॉर्ट टर्म इन्वेस्टर है तो आप अपना प्रॉफिट बुकिंग कर सकते हैं। पर अगर आप एक लांग टर्म इन्वेस्टर हैं तो हमारे समझ से यह होगा कि कंपनी का बैकग्राउंड बहुत स्ट्रॉन्ग है, फाइनेंशियल अच्छे हैं, सेक्टर में ग्रोथ भी है, सरकारी कंपनी है और कहीं से भी ऐसा कुछ भी नहीं दिखता है जिससे भविष्य में शेयर की कीमत या कंपनी के ऊपर किसी तरह का भी दबाव होगा जिसके कारण कीमत गिर जाएगी। इस नजरिया से देखा जाए तो शॉर्ट टर्म इन्वेस्टर अपना प्रॉफिट बुक करें और लॉन्ग टाइम इन्वेस्टर आंख बंद करके सो जाएं।

मार्केट में बहुत सारा ऐसे प्लेयर्स होते हैं जो कीमतों को ऊपर नीचे कर सकते हैं तो उसे चीज से 5-10 परसेंट का करेक्शन हो सकत हैं। इससे घबराने का नहीं है जो भी वैल्यू इन्वेस्टर है उन्हें मालूम है कि आने वाले समय में कंपनी डबल ट्रिपल या उससे ज्यादा भी हो सकती है।

आप इसे किसी भी तरह से IREDA खरीदने या बेचने की राय ना समझे यह पूरी तरह से आपका निर्णय होना चाहिए आप चाहे आपके शेयर बेच सकते हैं। आपका डीमैट अकाउंट है आपका पैसा हैं और रिस्क भी आपका ही हैं। सब कुछ आपका है इसलिए निर्णय आपका ही होना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Index