क्या एक से ज्यादा Demat Account खोल सकते हैं?

Multiple Demat Accounts

Dematअगर आप भी एक निवेशक हैं या फिर स्टॉक मार्केट में निवेश करना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले एक Demat Account खुलवाना होगा। Demat Account एक तरह का अकाउंट होता हैं जहा पर आपके शेयर और अन्य securities electronic फॉर्म में रखे जाते हैं। जिस तरह आप अपने पैसों को रखने के लिए बैंक अकाउंट खुलवाते हैं ठीक उसी तरह शेयर रखने के लिए Demat Account चाहिए होता हैं।

एक व्यक्ति कितने डीमैट खाते खुलवा सकता है?

एक इंसान अपनी इच्छा अनुसार जीतने मर्जी उतने Demat Account खुलवा सकता हैं। बहुत से लोग अपने निवेश और Trade को अलग अलग रखने के लिए दो Demat Account खोलते हैं। आप इसे एक बैंक अकाउंट की तरह समझिए – जिस तरह आप अलग अलग बैंक में अपना अलग अलग अकाउंट खुलवा सकते हैं ठीक उसी तरह आप अलग अलग ब्रोकर्स के पास अपना Demat अकाउंट खुलवा सकते हैं। लेकिन आप ध्यान रखिए की एक ब्रोकर के पास आप एक ही Demat अकाउंट खुलवा सकते हैं। भारत के कुछ प्रमुख ब्रोकर्स हैं- Zerodha, AngelOne, Groww, Upstox, 5Paisa इत्यादि।

हालांकि जिस तरह आपका सारा बैंक अकाउंट आपके PAN से लिंक रहता हैं ठीक उसी तरह आपके सारे Demat अकाउंट आपके PAN कार्ड से लिंक रहते हैं। आपको  ये तो समझ में आ गया होगा की एक से ज्यादा Demat account खोल सकते हैं, पर इसका फायदा क्या होगा?

एक से ज्यादा Demat अकाउंट रखने के फायदे

एक जो बहुत बड़ा फायदा ये हैं की आप अपने Trading वाले शेयर को अपने निवेश वाले शेयर से अलग रख सकते हैं। अक्सर क्या होता हैं की निवेश और trading पूरा खिचड़ी बन जाता हैं जो की कभी कभी समझना मुश्किल होता हैं। आप दो Demat अकाउंट खोलकर एक अच्छा Asset Diversification कर सकते हैं।

मार्केट में बहुत से ऐसे ब्रोकर जो हैं Delivery में discount देते हैं (जैसे जेरोध) और बहुत से ऐसे ब्रोकर हैं जो Intraday, F&O में डिस्काउंट देते हैं। अगर आप दोनों करना चाहते हैं तो आप अलग अलग ब्रोकर के पास अपना Demat Account खुलवा सकते हैं।

ऐसा करने से आपको अलग अलग ब्रोकर के अच्छी चीजे और बुरी चीजे पता चलेंगी। ऐसा तो हैं नहीं की सभी ब्रोकर सब कुछ दे रहे हैं, किसी में कुछ कमी हैं तो किसी में कुछ और इसलिए आपको बहुत से विकल्प मिल जाएंगे। इसके लिए आप हर एक ब्रोकर के Pros और Cons को पता कीजिए, कौन स सस्ता हैं, किसका app अच्छा हैं, इत्यादि उसके बाद ही अकाउंट खोलने का सोचिए।

आप अपने निवेश/trading को और अच्छे से मैनेज कर पाएंगे जो शायद एक Demat अकाउंट में संभव नहीं हैं। ये बिल्कुल ही अलग अलग बैंक के तरह हैं। जैसे की किसी बैंक में FD रेट ज्यादा हैं तो किसी में कम हैं। किसी में लोन सस्ते में मिलता हैं तो किसी में नहीं मिलता हैं। आप इस पूरे सिस्टम को बैंक की तुलना करके आसानी से समझ सकते हैं।

Tax planning में भी आपको आसानी होगी अगर आपको एक Demat अकाउंट में Short Term Capital Gain हो रहा हैं और दूसरे में Long Term Capital Gain।

एक से ज्यादा Demat अकाउंट रखने के नुकसान

अब जाहीर से बात हैं की एक से ज्यादा अकाउंट रहेगा तो खर्चे भी ज्यादा होंगे। मतलब की AMC लगेगा, अकाउंट opening फीस भी लगेगा। वैसे ज्यादातर ब्रोकर फ्री में अकाउंट खोल देते हैं और कुछ ब्रोकर्स का तो AMC भी नहीं हैं। लेकिन अगर आप ऐसे ब्रोकर के पास Demat अकाउंट खोलते हैं जहा AMC तो फिर आपको वो फीस देना पड़ेगा।

जितना ज्यादा अकाउंट उतना ज्यादा समय लगेगा सबको देखने और मैनेज करने में। अगर आपके पास ज्यादा समय नहीं हैं तो आप trading मत करिए और 2 अकाउंट मत खोलिए।

अब जैसा की अलग अलग जगह आपके पैसे रखे रहते हैं इसलिए आपको थोड़ा सा दिक्कत होगा सबका हिसाब करने में। और साथ ही साथ कागज पत्र बढ़ जाएगा क्यूंकी सारे आपको सारे ब्रोकर के documents को संभाल कर रखना पड़ेगा।

Demat अकाउंट से जुड़ी कुछ बातें

  • आप अलग अलग ब्रोकर के पास अपना एक से ज्यादा Demat अकाउंट खोल सकते हैं। इसका मतलब की आप सिर्फ Zerodha के पास दो Demat अकाउंट नहीं खोल सकते हैं।
  • आपको Tax उतना ही लगेगा क्यूंकी Tax का हिसाब PAN से होता हैं ना की Demat अकाउंट से।
  • IPO भी PAN कार्ड से मिलता हैं तो अगर आप IPO के लिए ज्यादा Demat Account खोलते हैं तो उसका कोई मतलब नहीं हैं।
  • अगर आप अकाउंट खोलकर भूल गए हैं तो वो अकाउंट Inoperative होकर बंद हो जाएगा।
  • आपको सभी Demat account में अलग से nominee भरना पड़ेगा। ऐसा नहीं है की एक जगह nominee भर दिए तो सब जगह हो गया।
  • एक ही मोबाईल नंबर से अलग अलग Demat अकाउंट खुल सकता हैं।

इसके अलावा नीचे कुछ महत्वपूर्ण चीजे दी गई है जिससे आपको ये पता करने में आसानी होगा की एक से ज्यादा demat अकाउंट खोलना हैं की नहीं।

  • आपके निवेश करने के लक्ष्य पर निर्भर करता हैं की आपको सच में 2 अकाउंट की जरूरत हैं।
  • अगर आप beginner हैं तो आपको एक ही account खोलना चाहिए। कोई मतलब नहीं बनता हैं अगर आपको मार्केट का समझ ही नहीं हैं तो।
  • आपके पास कितना समय हैं – अगर आप चीजों को मैनेज नहीं कर पाएंगे तो भी आपको 2 demat की जरूरत नहीं हैं।

अंत में

कुल मिलाकर बात ये सामने आता हैं की एक से ज्यादा Demat अकाउंट खुलवाना संभव हैं और कानून तौर पर सही भी हैं। मुश्किल ये हैं की क्या आपको सच में 2 Demat की जरूरत हैं। अगर आपको 2 से ज्यादा की जरूरत हैं तो आप Demat अकाउंट खुलवाने से पहले सभी ब्रोकर का फीस, AMC, brokerage, app, support, फीचर्स देख ले।

आपके दिमाग में एक clear idea होना चाहिए की कौन से Demat अकाउंट किस चीज के लिए हैं। वही पर अगर आप अभी शुरुआत कर रहे हैं तो एक Demat अकाउंट बहुत हैं। जैसे जैसे आपको शेयर मार्केट के बारे में जानकारी होगी, आप खुद ही समझ जाएंगे की क्या एक से ज्यादा Demat अकाउंट खुलवाना चाहिए की नहीं?

उम्मीद करते हैं की आपको कुछ जानकारी मिली होगी, अगर आपको कुछ समझ में ना आए तो आप नीचे कमेन्ट करके पुछ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Index