Mutual Funds में IRR और XIRR क्या होता हैं (हिन्दी में)

Mutual Funds XIRR meaning

म्यूचूअल फंड एक निवेशक के लिए बहुत ही लोकप्रिय तरीका बन गया हैं अपने पैसों को बढ़ाने का। म्यूचूअल फंड में बहुत ही फायदे हैं अगर आप सही से निवेश करे तो। परंतु किसी भी निवेश में जो सबसे ज्यादा जरूरी उसका रिटर्न होता हैं। मतलब की उस निवेश से आपको कितना पैसा मिलने वाला हैं।

अगर आप अपना म्यूचूअल फंड पोर्ट्फोलीओ देखेंगे तो वहाँ पर आपको XIRR और Absolute Return लिखा हुआ मिलेगा। अब इन दोनों का मतलब क्या हैं और आपका पैसा सच में कितना बढ़ा हैं कैसे पता चलेगा। अगर आप इन दोनों XIRR और Absolute Return को समझ जाएंगे तो आपको ये परेशानी नहीं होगी। इस लेख में IRR, XIRR और Absolute Return के बारे में बताया गया हैं।

म्यूचूअल फंड में IRR क्या होता हैं?

IRR का मतलब होता हैं Internal Rate of Return जिसे अगर आप अपने SIP के हर निवेश में लगाए तो आपको ये पता चलेगा की आपको कितना ब्याज दर मिलेगा। आप IRR को एक ब्याज दर से समझ सकते है, जिसे अगर प्रत्येक किस्त पर लागू किया जाए तो आपके कुल निवेश का current value मिलेगा। वैसे इसके परिभाषा में जाने का कोई मतलब नहीं हैं। आप बस IRR का concept समझिए और उसके लिए हमे पहले Absolute Return को समझना होगा। सब कुछ एक उदाहरण से समझते हैं।

निवेश की राशितारिकसमय सीमाReturn @ 23% IRR
सालाना निवेश400001.01.20205 साल11261 (4000+7261)
सालाना निवेश900001.01.20214 साल20600 (9000+11600)
सालाना निवेश500001.01.20223 साल9304 (5000+4304)
सालाना निवेश400001.01.20232 साल6052 (4000+2052)
सालाना निवेश650001.01.20241 साल7995 (6500+ 1495)
कुल राशि28,50001.01.20250 साल55212   (कुल रिटर्न)

Absolute Return का हिसाब

ऊपर के उदाहरण में आपने हर साल एक तारिक को कुछ राशि जमा की हैं। आपको 2025 में 55,212 रुपये मिलते हैं जो आप अपना कुल रिटर्न समझ सकते हैं। आपने कुल 28,500 रुपये निवेश किया था। तो अब आपका Absolute Return होगा 55212-28500 = 26712 हुआ।

आप इसको percentage में 26712/28500 करेंगे तो 93.72 % आएगा। अब यहाँ दिक्कत ये है की आपको मालूम नहीं हैं 93.72% आपको कितने साल में मिला हैं। या ऐसे बोला जाए की आपको ये नहीं मालूम की सालाना कितना ब्याज मिल रहा हैं। इसी का हाल IRR करता हैं।

IRR का हिसाब

अगर आप इस पूरे निवेश का IRR निकाले तो 23% आता हैं। अब ये कैसे निकला वो बाद में समझते हैं। अब इस 23 % का मतलब हैं की आपकी हर साल की निवेश पर आपको 23 % का रिटर्न मिला हैं। मतलब की 4000 रुपये जो आपने 01.01.2020 को निवेश किया था उस पर हर साल 23 % का ब्याज मिला हैं, और 9000 रुपये जो आपने 01.01.2021 को निवेश किया था उस पर भी 23 % का ब्याज मिल हैं और ऐसे ही बाकी के निवेश पर भी मिला हैं।

देखिए अब आपका हर निवेश का समय अलग अलग हैं इसलिए वो अलग अलग समय के निवेश किया गया हैं। 2020 वाला राशि 5 साल के लिए गया हैं, 2021 वाला 4 साल के लिए और ऐसे ही बाकी के और तीन। इसलिए पहले जो राशि निवेश किया गया हैं उसपर ज्यादा रिटर्न मिलेगा और बाद में जो किया गया है उस पर कम मिलेगा।

अगर आप टेबल मे देखेंगे तो आप समझ पाएंगे की आपको जो Return मिला हैं वो अलग अलग राशि पर अलग अलग समय के लिए निवेश किया गया राशि पर मिल रहा हैं। 4000 पर भी 23%, 5000 पर भी 23%, 6500 पर भी 23% और ऐसे ही बाकी पर। तो कुल मिलाकर आप ये समझ पाएंगे की आपको 5 साल में अपने निवेश किए हुए राशि पर 23% ब्याज मिला हैं।

अब यहाँ एक और जरूरी चीज जो समझना हैं की अगर आप पैसा निकालते भी हैं तो भी आपका IRR निकल जाएगा। मतलब की अगर आप 01.01.2022 को 5000 निवेश के जगह, 5000 निकाल लेंगे तो भी आपका IRR निकलेगा जिससे आपको पता चलेगा की आपका रिटर्न रेट कितना हैं।

उम्मीद करते हैं आपको IRR समझ में आया होगा। IRR कैसे निकलते हैं वो भी समझेंगे पर पहले XIRR समझ लेते हैं।

IRR की सीमाएँ

अब ऊपर वाले उदाहरण में क्या हुआ था आप हर साल एक fixed तारिक को अपना निवेश करते थे। मतलब की IRR जो समय सीमा लेता हैं वो ऐसे समझता हैं की आपने एक fixed तारिक को ही निवेश किया हैं और वो भी हर साल निवेश किया हैं (या पैसा निकाला हैं)।

अगर आप पैसा निकलेंगे तो जाहीर सी बात हैं की आपका रिटर्न रेट घटेगा। IRR दोनों में काम आता हैं, मतलब अगर आप पैसा निकाल रहे हैं तो भी उसका हिसाब हो जाएगा बशर्ते आप उसी तारिक को पैसे निकाले। अब जरूरी तो हैं नहीं की आप हर साल एक fixed तारिक को निवेश करे या ये भी जरूरी नहीं हैं की आप उसी दिन पैसा निकाले। आप हर महीने निवेश कर सकते हैं, और जब जरूरत पड़े आप पैसे निकाल सकते हैं। और इसीलिए IRR मासिक SIP वाले म्यूचूअल फंड में काम नहीं करता हैं।

म्यूचूअल फंड में XIRR क्या होता हैं?

XIRR, IRR का ही बड़ा भाई हैं। XIRR को Extended Internal Rate of Return बोलते हैं। म्यूचूअल फंड में आप जब मन किया पैसे निवेश किए, जब मन किया पैसे निकाल दिए। जो भी पैसा आपके निवेश मे बचा हैं उस पर XIRR निकाल कर आपको अपना ब्याज दर मिल जाएगा। ये बिल्कुल IRR की तरह का concept है बस इसमे आपकी तारिक आपकी मर्जी के हिसाब से बदल सकती हैं।

निवेश की राशितारिकReturn @ 22% XIRR
1400001.05.2023इसका हिसाब हमको नहीं आता हैं.. मजाक कर रहे हैं। आप compound interest निकाल लीजिए (जो की बहुत मेहनत लगेगा और हम थक गए हैं) अगर आपको सभी का 22% पर रिटर्न देखना हैं तो।
2900001.06.2023
3500005.08.2023
4-400016.09.2023
5650025.11.2023
601.12.202532945 (कुल रिटर्न)

अगर आप ऊपर के टेबल का उदाहरण ले तो इसका XIRR 22% होता हैं। जिसमे आपने 4000 रुपये 16.09.2023 को निकाले भी हैं और 1.12.2025 को आपने अपने सारे units को 32945 में बेच दिया हैं।

XIRR का वही मतलब हैं जो IRR का हैं की वो आपकी हर एक निवेश पर मिलने वाली ब्याज हैं। बस फर्क ये हैं की आप XIRR में महीने या दिन वाली तारिक भी ले सकते हैं।

IRR और XIRR निकालते कैसे हैं?

देखिए IRR और XIRR निकालने की जरूरत हैं नहीं क्यूंकी आपको इनका मतलब समझना जरूरी हैं। पर भी आप इसे MS Excel या फिर Google Sheets में निकाल सकते हैं।

IRR निकालने का फार्मूला हैं

=IRR(Value)”। उदाहरण के लिए =IRR(D5:D10)

इसमे D5 से लेकर D10 तक अपना निवेश (या निकासी) का राशि डाल सकते हैं। जो निवेश आपने किए हैं उसे “-” लगाकर लिखना हैं और जो आपको मिलेगा या निकाले हैं उसे ‘+’ मे लिखना हैं। ऊपर IRR के उदाहरण में आपको -4000, -9000, -5000 इत्यादि करके आपको निवेश वाला राशि लिखना हैं और अंत में जो आपको 55212 रुपया मिल रहा है उसको + लगाकर लिखना हैं। बस इतना करके बाद फार्मूला लगाकर IRR निकाल लीजिए।

XIRR निकालने का फार्मूला हैं

“=XIRR(Value, date)। उदाहरण के लिए  =XIRR(D5:D10,C5:C10)

इसमे भी वैसा ही हैं, बस इसमे आपको तारिक लिखना होगा सभी निवेश का। जो भी तारिक को आपने निवेश किया हैं वो तारिक आप चुन लीजिए। ऊपर फार्मूला के उदाहरण में C5:C10 में तारिक भर सकते हैं। फिर उसके बाद आप XIRR का फार्मूला लगाकर देख सकते हैं। 

Mutual Funds में XIRR का इस्तेमाल 

  • म्यूचूअल फंड के performance :आप XIRR का इस्तेमाल करके ये पता कर सकते हैं की कोई म्यूचूअल फंड कैसा रिटर्न दे रहा हैं।
  • किसी दूसरे म्यूचूअल फंड से तुलना करके आप ये निर्णय ले सकते हैं की कौन सा म्यूचूअल फंड आपको ज्यादा रिटर्न दे रहा हैं।
  • अगर आपको अंदाज हो जाता है की कोई म्यूचूअल फंड कितना return देगा तो आप उसके हिसाब से अपना future planning कर सकते हैं।

Mutual Funds में XIRR के फायदे 

  • सही रिटर्न पता होना: आप XIRR के मदद से ये जान पाएंगे की कोई भी म्यूचूअल कितना रिटर्न आपको असली में दे रहा हैं। अब देखिए CAGR और Absolute आपको ये चीज नहीं बता सकते हैं।
  • अगर आप कुछ पैसे निकाल भी लेते हैं तो भी आपको XIRR पता चलेगा ही। ऐसा नहीं है की आपका म्यूचूअल फंड का हिसाब पूरा इधर उधर हो जाएगा और आपको मेहनत करने की भी उतनी जरूरत नहीं हैं। इसके अलावा अगर SWPs (Systematic Withdrawal Plans) को भी इसमे देख कर अपनी financial planning कर सकते हैं।
  •  किसी भी चीज की पूरी जानकारी होनी चाहिए तभी आप सही निर्णय ले पाएंगे की आखिर अपनी मेहनत की कमाई को कहा पर निवेश करना हैं।

Mutual Funds में IRR और XIRR के नुकसान 

  • बहुत ही खतरनाक वाला Calculation। मतलब की जब तक आपको XIRR देखना हैं तब तक ठीक हैं। पर जैसे ही निकालने की बात आती हैं तो दिमाग थोड़ा तो घूम जाएगा। वैसे MS Excel में ये आसानी से हो जाता हैं।
  • XIRR निकालने के लिए आपको पूरी निवेश की राशि और निवेश की return जरूरी होती हैं।
  • आपके समय के हिसाब से XIRR बदल सकता हैं। मतलब अगर जरा भी डेट इधर उधर हुआ कुछ और ही रिटर्न निकल कर आ जाएगा।

अंत में

म्यूचूअल फंड की दुनिया में XIRR बहुत ही महत्व रखता हैं। XIRR से आपको किसी म्यूचूअल फंड की performance पता चलती हैं। आप XIRR को देखकर ये निर्णय ले पाएंगे की कौन सा म्यूचूअल फंड आपके लिए सबसे सही हैं। वैसे तो XIRR निकालने की जरूरत नहीं पड़ती हैं, ये लगभग हर म्यूचूअल फंड में खुद से ही दिखता हैं, पर भी आप इसे MS-Excel में हिसाब कर सकते हैं।

उम्मीद करते हैं आपको XIRR के बारे में पूरी जानकारी मिली होगी। अगर आपको कही पर कुछ समझ ना आए तो आप नीचे कमेन्ट करके पूछ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Index