Put Call Ratio – PCR क्या होता हैं? PCR Meaning in Hindi

Put Call Ratio kya hota hain

अगर आपको Options Trading करना हैं तो आपके लिए Put Call Ratio एक जबरदस्त indicator हैं जिसकी आपको बहुत जरूरत पड़ने वाली हैं। Put Call Ratio को शॉर्ट में PCR भी बोला जाता हैं। इसका इस्तेमाल मार्केट का अंदाजा लगाने के लिए किया जाता हैं की मार्केट ऊपर जाने वाला हैं या फिर गिरने वाला हैं। जाहीर सी बात हैं की कोई ऐसे stamp paper पर लिख कर के तो दे नहीं सकता हैं। पर PCR से आप अनुमान लगा सकते हैं की मार्केट में आने वाले समय कैसा बदलाव आ सकता हैं।

Derivatives मार्केट में आपको PCR से बहुत मदद मिलने वाली हैं, चाहे वो शेयर का Options हो या फिर Indexes का। लेकिन आपको PCR समझने से पहले Put Options और Call Options के बारे में पता होना चाहिए। इस आर्टिकल में PCR के बारे में बताया गया हैं। PCR क्या होता हैं? Options trading में Put Call Ratio को कैसे इस्तेमाल करें? PCR को कैसे निकाले? आप PCR की मदद से एक profitable trade ले सकते हैं।

Put Call Ratio से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें

PCR समझने से पहले आपको इतना मालूम होना चाहिए की Put Options  और Call Options क्या होते हैं? Options trading के Put Options और Call Options की किताबी परिभाषा बहुत ही पेचीदा हैं। पर आसान शब्दों में समझया जाए तो Put Option एक निवेशक को किसी शेयर को पहले से तय की गई कीमत पर बेचने की agreement होता हैं और ठीक इसी का उलटा Call Option एक निवेशक को किसी शेयर को पहले से तय की गई कीमत पर खरीदने की agreement होता हैं।

इन दोनों ही Options के अपने अपने विशेताएँ हैं। जैसे की लोग Put option तब खरीदते हैं जब उन्हे लगता हैं की मार्केट नीचे गिरने वाला हैं। इसका उलटा लोग Call options तब खरीदते हैं जब उन्हे लगता हैं की मार्केट ऊपर जाने वाला हैं।

अब जब आप खरीद रहे हैं तो कोई बेच भी रहा होगा। जो Options को बेचते हैं उन्हे Option Seller/ Option Writer बोला जाता हैं। और उनकी मानसिकता दोनों ही Options के लिए उलटी होती हैं ।

देखिए अभी तक आप इतना समझे की दो तरह के Options होते हैं और एक Option Buyer होता हैं और एक Option Seller होता हैं।

Option Seller के लिए Call और Put Options का मतलब Options खरीदने वाले से उलटा होता हैं। Option Seller अगर Call Option बेचता हैं तो उसे तब फायदा होगा जब मार्केट नीचे जाएगा और ठीक उसी तरह Put Option Seller को तब फायदा होगा जब मार्केट ऊपर जाएगा।

एक चीज जो गौर करने वाली हैं की एक Option बेचने में ज्यादा पैसा लगता हैं। और Option खरीदने में कम पैसा लगता हैं। उदाहरण के लिए आप नीचे Kite app पर कोई Option को Buy और Sell करके देख सकते हैं। (जरूरी नहीं है की आप Order place ही कर दे बस Margin कितना लगेगा वो देख लीजिए)

पैसा क्यू ज्यादा लगता हैं? क्या नियम कानून हैं उन सब में पड़ने के जरूरत नहीं हैं। बस एक चीज का ध्यान रखिए की एक Seller को लगभग 4 से 5 गुना पैसा देना पड़ रहा हैं एक Buyer के मुकाबले। तो एक seller को Risk ज्यादा हैं पर उसी के साथ और भी बहुत सी चीजे हैं जो एक Buyer को कमजोर बनाती हैं। ये सब चीज बहुत ही बड़ा विषय हैं।

Put Call Ratio क्या होता हैं? PCR Meaning in Share Market

Nifty की Option Chain को देखिए।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *