Scalping कैसे करें? Scalping Strategies in Hindi

scalper strategy in hindi

अगर आप भी Scalping से पैसा कमाना चाहते हैं और नहीं समझ में आ रहा है कि कैसे शुरुआत करें तो आप सही जगह पर आए हैं। Scalping एक ट्रेडिंग का तरीका है जिसमें ट्रेडर्स मार्केट के Volatility के ऊपर छोटे-छोटे प्रॉफिट कमाने की कोशिश करते हैं। इसमें एक Scalper अपने entry point और exit point का पहले से ही पता करके अपना ट्रेड लेता है जिससे उसका प्रॉफिट (या लॉस भी हो सकता हैं) होने का उम्मीद बहुत ज्यादा होता है। मतलब ये हैं की यह सारा चीज जो है यह सब कुछ कैलकुलेटेड होता है।

Scalping दूर से भले ही बहुत ही अच्छा दिखाई दे रहा हूं पर इसके साथ बहुत ज्यादा ही रिस्क जुड़े हुए हैं। और बिना किसी स्ट्रेटजी के Scalping करना एक मुसीबत को अपने गले लगाने जैसा हो सकता है। इसीलिए ये बहुत जरूरी है कि आप Scalping करने से पहले कुछ जरूरी चीजों का ध्यान रखें। इस आर्टिकल में Scalping कैसे करें उसके बारे में बताया गया है और साथ ही साथ कुछ अच्छे Scalping Strategy भी बताई गई है जिसका इस्तेमाल करके आप एक अच्छा Scalper बन सकते हैं।

कोई भी Scalping Strategy समझने से पहले जरूरी यह है आप इस बात को समझे कि जो चीज आप लंबे समय में कर रहे हैं उसी को अब छोटे समय में करना है।  मतलब कि आप कोई trade/invest कर रहे हैं तो आप जिस तरह से अपने ट्रैड करते रहे हैं उसको अब तोड़-तोड़ के छोटे-छोटे टाइम फ्रेम में जैसे की 2 मिनट 1 मिनट 5 मिनट 10 मिनट के समय में आपको करना है।

ये भी पढे: Scalping क्या होता हैं? Scalping Meaning in Hindi

जाहिर सी बात है कि आपको टेक्निकल एनालिसिस की समझ होनी चाहिए, कैंडलेस्टिक पेटर्न पता होना चाहिए, चार्ट पेटर्न पता होना चाहिए, सपोर्ट रेजिस्टेंस क्या होता है वह पता होना चाहिए, ट्रेंडलाइन कैसे बनता है वह पता होना चाहिए, ट्रेड क्या होता है वह पता होना चाहिए, इंडिकेटर कौन-कौन से हैं वह पता होने चाहिए इत्यादि। यह सारी चीज टेक्निकल एनालिसिस का हिस्सा है इसके जानकारी के बिना कोई भी स्ट्रेटजी आपका काम नहीं करेगा। आपको टेक्निकल एनालिसिस सिखाना ही पड़ेगा तभी आप जाकर के एक अच्छा Scalper बनेंगे।

Scalping के लिए कुछ जरूरी बुनियादी चीजे:

  • Chart Patterns की समझ जैसे की Double Top इत्यादि
  • Candlestick Pattern की समझ जैसे की Doji, Hammer इत्यादि
  • Technical Analysis आना चाहिए जैसे की Support Resistance
  • अलग अलग Time Frames में चार्ट को पढ़ना आना चाहिए
  • Trendlines, Trend और Trend Reversal की समझ होनी चाहिए
  • Indicators का इस्तेमाल – कुछ प्रमुख indicators हैं – RSI, Bollinger Bands, MA, EMA, Super trend, MACD, Fib Retracement
  • मार्केट की Volatility और Liquidity की समझ
  • ये सारी strategy बस मार्केट का एक General बर्ताव हैं। मार्केट में कभी भी कुछ भी हो सकता हैं।
  • Risk, Reward और Stoploss की समझ
  • Price Action की समझ

Breakout Scalping

पहले स्ट्रेटजी है ब्रेकआउट। देखिए जिस तरह से आप ब्रेक आउट ट्रेडिंग करते हैं, मतलब की आपको एक जगह पर रेजिस्टेंस मिल रहा है और बार-बार कीमत वहां से वापस आ रहा है तो आप इस चीज का इस्तेमाल करके अपना ट्रेड को ले सकते हैं। जब भी रेजिस्टेंस ब्रेक होता है या सपोर्ट ब्रेक होता है तो आप Breakout Scalping कर सकते हैं। आप इसके लिए 1, 5, 10 मिनट का चार्ट इस्तेमाल करेंगे।

आपको चार्ट पर अलग अलग Support और Resistance दिखाई दे देगा जिसका इस्तेमाल आप कर सकते हैं। जो चीज आप ब्रेक आउट ट्रेडिंग में लंबे समय में करते हैं उसी को छोटे समय में करना हैं। आपको बस ये देखना हैं की कब कीमत सपोर्ट से नीचे जा रहा है या रेजिस्टेंस से ऊपर जा रहा है तो आपको अपना ट्रेड ले लेना है। आपको यह ध्यान रखना हैं की आपको प्रॉफिट और स्टॉपलॉस दोनों चीज पता होने के बाद आप उसे स्टॉक में पैसे कमाने के लिए Scalp करिए।

 ये भी पढे: Support & Resistance क्या होता हैं? Support & Resistance in Hindi

यह करने के लिए आपको मार्केट के trend का भी मदद लेना पड़ेगा। उदाहरण के लिए देखिए अगर लंबे टाइम फ्रेम में कीमत Uptrend में है तो जाहिर सी बात है कि चार्ट आपको दिखाएगा कि रेजिस्टेंस छोटे समय में भी टूटा होगा। अब क्योंकि trend uptrend है इसीलिए कीमत जो है वह ऊपर ही जाएगी, तो अगर ऐसे आपको मार्केट में दिखता हैं की एक गिरावट के बाद कीमत ऊपर जा रही हैं तो ज्यादा उम्मीद हैं की Resistance टूटेगा जिससे breakout का फायदा होगा। ठीक इसी तरह Support टूटने पर भी चीजे वैसी ही होंगी।

देखिए आपको ये ध्यान में रखना हैं की trend के उलटी दिशा में कभी trade नहीं करना हैं।

आप Scalping के लिए Bollinger Bands Indicator का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। जब भी इस band में कीमत नीचे की तरफ हो तब आप एक Buy position बना सकते हैं और जब ऊपर की तरफ हो तो sell position बना सकते हैं।

Sideways Market में Scalping

दूसरा है Sideways मार्केट में Range Scalping। देखिए एक Sideways market में आपको बस Support और Resistance level पता करना होता हैं। ऐसा हो सकता हैं की आपको इसमे समस्या आए, पर ये सीखना पड़ेगा। आपको अगर मार्केट में पैसा कमाना हैं तो Support और Resistance के बिना तो ये मुश्किल हैं। अब इसमें ज्यादा समझने की जरूरत है नहीं आप सपोर्ट पर खरीदे और रेजिस्टेंस पर बेच दीजिए। क्योंकि आपको मालूम है कि हां भाई कीमत इसी Support और Resistance के बीच Range में रहने वाला है तो आप एक move को पकड़ना हैं। एक trending मार्केट के मुकाबले Sideways मार्केट में Scalp करना थोड़ा मुश्किल होता हैं।

ये भी पढे: Swing Trading क्या होता हैं? Swing Trading कैसे करें?

VWAP +Moving Average + Chart Pattern Scalping

देखिए क्या होता है कि आपको ऐसे स्टॉक को ढूंढना है जो हाल फिलहाल में एक अच्छा खासा उछाल या गिरावट देख चुके हैं।  जैसा कि आप जानते होंगे कि कोई भी शेयर की कीमत अपने मीन एवरेज कीमत के पास आने की कोशिश करता है। जो की एक इंडिकेटर लगाने से भी आप समझ में आ जाएगा। उस indicator का नाम हैं VWAP (Volume Weighted Average Price)।

तो जब भी अपने जब भी कीमत VWAP से दूर है तो आप एक Sell पोजीशन या बाय पोजीशन देखकर बना सकते हैं। इसकी मदद से आप ये समझ सकते हैं कि यहां से कीमत कहां पर जाएगा और उसके हिसाब से आपको कितना प्रॉफिट हो सकते हैं। आप इस चीज को और सटीकता से देखने के लिए Moving Average (Fast या Slow) भी देख सकते हैं जो की MACD इंडिकेटर से पता चल जाएगा।

इन सारी चीजों को आप Trend Reversal Chart Patterns से और सटीक बना सकते हैं।

अंत में

देखिए ये strategy कोई सटीक Strategy नहीं हैं। आप इसे बस पढ़कर समझे और हर एक strategy को पहले backtesting करें। ऐसा जरूरी नहीं हैं की जो चीज मेरे लिए काम करती हैं वो आपके लिए भी काम करेगी। आपको कोई भी बस बुनियादी चीजे ही बताएगा। Scalping करने के लिए गुर्दा चाहिए होता हैं क्यूंकी मिनटों का खेल हैं सारा। 3-4 जगह चार्ट देखना, अपना Demat अकाउंट देखना, चार्ट पैटर्न देखना और पता नहीं क्या क्या। इसलिए बहुत जरूरी हैं की आप सबकुछ पहले समझे उसके बाद ही मार्केट में कूदे। क्यूंकी ये पैसा आप कमाएंगे इसलिए आपको मेहनत करनी ही पड़ेगी।

3 thoughts on “Scalping कैसे करें? Scalping Strategies in Hindi

  1. I wonder how much work goes into creating a website this excellent and educational. I’ve read a few really good things here, and it’s definitely worth saving for future visits.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Index