शेयर मार्केट में YTD क्या होता हैं? YTD Meaning in Hindi

ytd meaning in share market

जब भी आप किसी शेयर/Mutual Funds के रिटर्न देखते हैं, उस समय आपने देखा होगा की वहाँ पर एक दिन, 5 दिन, 1 महीना, 6 महीना, YTD, 1 साल, 5 साल का विकल्प रहता हैं। अब यहाँ पर दिन, महीने और साल तो समझ में आता हैं पर बहुत से निवेशको को YTD का मतलब नहीं पता होता हैं। जब रिटर्न्स की बात हो रही हो और एक नया शब्द YTD सामने आता हैं, तो गौर करने वाली बात ये हैं की आखिर ये है क्या और इसका क्या महत्व हैं। इस आर्टिकल में YTD Meaning in Hindi के बारे में जानकारी दी गई हैं। इसके साथ ही ये भी बताया गया हैं की आखिर YTD इतना जरूरी क्यूँ हैं?

शेयर मार्केट में YTD क्या होता हैं?

YTD का फूल फॉर्म Year to Date होता हैं। जब भी आप किसी शेयर या म्यूचूअल फंड का YTD Return देख रहे हैं तो इसका मतलब हुआ की आप उस शेयर की साल के शुरुआत से उस दिन तक के रिटर्न को देख रहे हैं। उदाहरण के लिए अगर आप 12 October को किसी कंपनी का YTD रिटर्न देखते हैं तो इसका मतलब आप 1 जनवरी से 12 October तक का रिटर्न देख रहे हैं।

वही अगर आप 20 जुलाई को YTD देखेंगे तो इसमे 1 जनवरी से 20 जुलाई तक का रिटर्न ही होगा। शेयर मार्केट में YTD का इस्तेमाल बिल्कुल बाकी के समय सीमा के जैसा हैं। आप जिस तरह से 5 दिन, 6 महीना या एक साल का रिटर्न देख कर शेयर को analyze करते हैं ठीक उसी तरह YTD भी काम करता हैं। आप इसे दूसरे कंपनी के YTD के साथ भी तुलना कर के सही निवेश का निर्णय ले सकते हैं।

YTD का शेयर मार्केट में महत्व | YTD Meaning in Hindi

चूंकि Financial चीजों का हिसाब किताब अप्रैल महीने से शुरू होता हैं, तो कही न कही जनवरी महीने से रिटर्न मालूम नहीं चलता हैं। आप Quarterly रिटर्न भी देख सकते हैं लेकिन साल के शुरुआत से देखने के लिए YTD ही फायदेमंद हैं।

बहुत बार ऐसा होता है की साल बदलता हैं तो हाल भी बदल जाता हैं। तो अगर आपको ऐसी जानकारी चाहिए जो साल के बदलने से हुआ हैं तो आप उसे YTD में देख सकते हैं।

ऐसा नहीं हैं की सिर्फ रिटर्न ही YTD में रहते हैं। आप इंकम, प्रॉफ़िट, loss इत्यादि भी देख सकते हैं। इसके अलावा भारत में बजट 1 फरवरी को आता हैं और हो सकता हैं की बजट के कारण किसी कंपनी के कीमत में उतार चढ़ाओ हुआ हो। अगर ऐसा कुछ हैं तो आप उसे YTD से पकड़ सकते हैं, क्यूंकी शेयर में बदलाव बजट के आस पास होने लगेंगी।

YTD का नुकसान

YTD का जो फायदा हैं वही उसका नुकसान भी हैं। अगर आप 25 जनवरी को किसी शेयर का YTD Return देखेंगे तो आपको सिर्फ 25 दिन का ही रिटर्न मिलेगा। अगर आपको पुराने रिटर्न देखने हैं तो आपको पहले के data देखने पड़ेंगे।वैसे long टर्म निवेश में तो उतना फर्क पड़ता नहीं हैं, पर अगर आप छोटे समय के लिए निवेश करना चाहते हैं तो केवल YTD देखने का कोई मतलब नहीं बनता हैं।

उदाहरण के लिए अगर आप कोई सीज़नल स्टॉक खरीदना चाहते हैं जैसे की Asian Paints। अब इस शेयर का बर्ताव साल के अंत के समय में जैसा होगा वैसे साल के शुरुआत में नहीं होगा। और अगर आप YTD रिटर्न देख कर साल के अंत में निवेश करेंगे तो आपको साल के शुरू समय के कम रिटर्न्स भी जुड़े रहेंगे जो की आपके लिए गलत data होगा।

ठीक उसी इसका उलटा भी हो सकता हैं, कोई शेयर साल के पहले कुछ महीने में अच्छा रिटर्न दिया हैं तो जरूरी नहीं हैं की वो साल के अंत में भी वैसा ही रिटर्न दे। इसलिए बहुत जरूरी हैं की आप सीज़नल स्टॉक लेने से पहले पिछले कुछ सालों का उस समय का रिटर्न देख ले। इसके अलावा अगर आप YTD Return देखते हैं तो सारी चीजों को समझ कर ही निवेश करें।

निवेशक YTD रिटर्न को कैसे इस्तेमाल करें?

अगर आप एक लंबे समय तक के लिए निवेश करना चाहते हैं तो आपके लिए YTD देखने का कोई मतलब नहीं हैं। आप बस अपने risk को मैनेज करिए क्यूंकी Risk Management और Asset Allocation ज्यादा जरूरी हैं।

वही अगर आप छोटे समय के लिए निवेश कर रहे हैं तो आपको YTD के बारे में पता होना चाहिए, क्यूंकी शेयर मार्केट में Timing बहुत जरूरी हैं। अगर आपको मालूम ही नहीं होगा की YTD का मतलब क्या हैं तो आप चीजों को कैसे समझेंगे। और अगर आप सिर्फ YTD को देख कर निवेश कर दिए तो आपका नुकसान हो सकता हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Index